India vs Australia: तीसरे टेस्ट मैच का पूरा हाल

475

कल के मुकाबले में, भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी 2020-21 का तीसरा टेस्ट मैच ड्रा रहा। भारतीय क्रिकेट टीम को खेल के चौथे दिन कई बाधाओं और कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। हालाँकि, प्रतिकूल परिस्थितियों ने भारतीय टीम को अपना पूरा प्रयास करने से नहीं रोका और ऑस्ट्रेलिया से जीत हासिल कर ली। ऑस्ट्रेलिया की बॉलिंग ने भारतीय टीम पर दबाव बनाया। वहीं पूरे दिन एससीजी की पिच पर आर. अश्विन और हनुमा विहारी ने मैच को ड्रा कराने के लिए विजय प्राप्त की और भारत को आरामदायक स्थिति में डाल दिया।

ऑस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाज वार्नर उम्मीदों पर खरे नही उतरे

ऑस्ट्रेलिया टीम और प्रशंसकों को सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर से बहुत उम्मीदें थीं। हालांकि, वार्नर दोनों पारियों में उम्मीद के मुताबिक नहीं खेल सके। सलामी बल्लेबाज ने दोनों पारियों में सिर्फ 5 रन और 13 रन बनाए। टेस्ट मैच की पहली पारी में मोहम्मद सिराज और दूसरी पारी मे आर. अश्विन ने वॉर्नर को आउट किया।

ऑस्ट्रेलिया के मार्नस लाबुशेन और स्टीव स्मिथ का कमाल का प्रदर्शन

ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों ने भारतीय गेंदबाजों पर लगातार दबाव बनाए रखा। स्टीव स्मिथ और मार्नस लाबुशेन ने अपनी बल्लेबाजी का बेहतरीन प्रदर्शन किया। स्टीव स्मिथ ने पहली पारी में शतक बनाया, जबकि दूसरी तरफ मार्नस लाबुशेन ने 91 रन की शानदार पारी खेली। दोनों खिलाड़ियों ने टेस्ट मैच की दूसरी पारी में अपने बेहतरीन प्रदर्शन को जारी रखते हुये भारत को 407 रनों का लक्ष्य दिया।

भारतीय गेंदबाजों ने लगाया एड़ी-चोटी का जोर

रवींद्र जडेजा टेस्ट मैच की पहली पारी में नायक गेंदबाज शाबित हुये। उन्होंने महत्वपूर्ण 4 विकेट लिए और ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को रोका। नवदीप सैनी और जसप्रीत बुमराह ने दो-दो विकेट लिए। हालाकि नवदीप सैनी थोड़ा महंगे शाबित हुये, लेकिन उन्होंने टेस्ट मैच की दूसरी पारी में महत्वपूर्ण विकेट चटकाए। रवींद्र जडेजा टीम इंडिया के लिए अहम खिलाड़ी थे क्योंकि वह गेंदबाजी और फिल्डींग दोनों में कुशल थे। आर. अश्विन ने ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों पर दबाव बनाए रखा और दो महत्वपूर्ण विकेट हासिल किए। मोहम्मद सिराज पूरे टेस्ट मैच में किफायती रहे और दोनों पारियों में एक-एक विकेट हासिल किया।

भारतीय बल्लेबाजों ने ऑस्ट्रेलिया के हाथों से जीत छीन ली

चूंकि ऑस्ट्रेलिया ने टीम इंडिया को 407 रनों का विशाल लक्ष्य दिया था, इसलिए टीम की बल्लेबाजी दबाव में थी। ऑस्ट्रेलियाई प्रशंसकों की जातीय कमेंट्स का सामना करने के बाद भी, भारतीय टीम के बल्लेबाजों ने शांति दिखाई और गेमप्ले के साथ आगे बढ़े। सलामी बल्लेबाज़ रोहित शर्मा और शुभमन गिल ने टीम इंडिया को शानदार शुरुआत दी। मैच की दूसरी पारी में कप्तान अजिंक्य रहाणे संघर्ष करते हुये दिखाई दिये और सिर्फ चार रन बनाए। ऋषभ पंत और चेतेश्वर पुजारा टीम इंडिया के लिए रनिंग फायरिंग मशीन शाबित हुये। पंत और पुजारा ने जीत के लिए आवश्यक रन को कम करते हुए क्रमशः 97 रन और 77 रन बनाए। आर अश्विन और हनुमा विहारी मैच के असली हीरो थे। दोनों खिलाड़ियों ने ऑस्ट्रेलिया के लगभग पूरी गेंदबाजी का सामना किया और मैच ड्रा करने के लिए लगभग तीन घंटे तक पिच पर टिके रहे। इतना ही नहीं बल्कि दोनों खिलाड़ी ऑस्ट्रेलिया के गेंदबाजों द्वारा डाली गई बाउंसर और तेज गेंद से घायल भी हुए। अंत में, टेल-एंडर्स द्वारा बेहतरीन प्रदर्शन ऑस्ट्रेलिया टीम के लिए खतरा बन गया। ऑस्ट्रेलिया की गेंदबाजों ने टेल-एंडर्स को आउट करने के लिए हर एक फेंकी हुई बॉल का परीक्षण किया। हालांकि, आर. अश्विन और हनुमा विहारी टीम इंडिया के लिए अटूट दीवार बन कर खड़े रहे, और मैच का परिणाम टीम इंडिया को जीत के और करीब ले गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here